#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

दिल के शोलों की जलनहमसे पूंछो!

कैसी है कांटो की चुभनहमसे पूंछो!

हो चुका है ख़त्म दौरशराफत अब,

दोरंगी दुनिया का चलनहमसे पूंछो!

 समझो माली को बगीचे का मालिक

अब कैसे उजड़ते हैं चमनहमसे पूंछो !

आज़ाद ज़िंदगी जीना तो सपना है अब,

कैसे होता है उसका दमनहमसे पूंछो!

 उठाये फिरिये ग़मों का पहाड़ “मिश्र“,

इसमें होता है कितना वजनहमसे पूंछो !

 

शांती स्वरुप मिश्र

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.