#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

कैसे करें ऐतबार हम, भला गैरों की जात पर,

जब होते हैं खुश अपने ही, अपनों की मात पर !

सबसे पहले पूंछते हैं ख़ैरियत वो ही अक्सर,

जो छुप के घात करते हैं, बस ज़रा सी बात पर !

***

दुनिया में जिधर देखो, बस दिखता है आदमी !

फिर भी यहाँ तन्हा सा, क्यों दिखता है आदमी !

चुप चाप जमाने के सहते हुए हर ज़ुल्मो सितम,

अपनी ही लाश को खुद, लिए फिरता है आदमी !

अजीबो गरीब दुनिया का ये भला कैसा है चलन,

कि आदमी के हाथों यहां, रोज़ मरता हैं आदमी !

इक पल का चैन मयस्सर नहीं किसी को यहां,

सिर्फ जीने की तमन्ना में, रोज़ मरता है आदमी !

चिंता भरी रातें तो गुज़र जाती हैं जैसे तैसे बस

पर सुबह से शाम तक, बिकता फिरता है आदमी !

कहीं कुदरत की मार तो कहीं सियासत है “मिश्र”

बस दुनिया की मुश्किलों में, रोज़ घुटता है आदमी !

शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.