#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

हवा में अनजान सा डरबसा क्यों है ! 

हर लम्हा ज़िन्दगी का, खफा क्यों है !

गुज़रती हैं स्याह रातें करवटें बदलते,

ये ज़िन्दगी भी यारो, इक सज़ा क्यों है !

घर में छायी हैं बला की खामोशियाँ,

दर ओ दीवार पर मातम, सजा क्यों है !

दिल के कोनों में बढ़ गयी है हलचल,

बीती यादों का ये वबंडर, उठा क्यों है !

जब चाह थी जीने की न जी सके “मिश्र”

फिर से हसरतों का मेला, लगा क्यों है !

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.