#Gazal by Shanti swaroop Mishra

ख़्वाहिश नहीं है मुझ कोमशहूर होने की !

यूं ही चाहतों की चाहत मेंमग़रूर होने की !

 

मैं तो लिखता हूँ सिर्फ अपनी ख़ुशी के लिए,

 दिखती कोई वजहमेरे मज़बूर होने की !

 

कोई जानता है मुझ को इतना ही काफी है,

 पाली है मैंने तमन्नाचश्मेबददूर होने की !

 

तड़पते ज़ज़्बात बस उकेर देता हूँ कागज़ पे

 आती है कभी नौबतदिल के चूर होने की !

 

देखता हूँ विषमताएं तो जी तड़पता है “मिश्र“,

 रहती फ़िक्र मुझकोकिसी से दूर होने की !

 

शांती स्वरूप मिश्र

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.