#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

दास्ताने ज़िंदगी, मैं साथ लिये जाता हूँ !

टूते हुए दिलको, मैं साथ लिये जाता हूँ !

मांग लेना जान भी गर ज़रूरत हो तुझे,

बची है ज़रा सी, उसे साथ लिये जाता हूँ !

खिली रहे धूप खुशियों की चेहरे पर तेरे,

गमों का हर बादल, मैं साथ लिये जाता हूँ !

निकाल देना यादों को मेरी दिल से अपने,

तेरी यादों का ज़खीरा, मैं साथ लिये जाता हूँ !

हम पायेंगे मोहब्बत की सज़ा उम्र भर “मिश्र”,

तेरे प्यार की हर अदा, मैं साथ लिये जाता हूँ !

शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.