#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

हमने तो अपनी ज़िन्दगी तमाम कर दी,

अपनी तो हर सांस उनके नाम कर दी !

सोचा था कि कभी तो गुज़रेगी रात काली,

पर उसने तो सुबह होते ही शाम कर दी !

समझ पाते हम मोहब्बत की सरगम को,  

उसने सुरों की महफ़िल सुनसान कर दी !

कर लिया यक़ीन हमने भी उसके वादों पे,

मगर उसने तो बेरुखी हमारे नाम कर दी !

हम मनाते रहे ग़म अपनी मात पर चुपचाप,

मगर उसने तो मेरी चर्चा सरे आम कर दी !

ये खुदगर्ज़ी ही आदमी की दुश्मन है “मिश्र“,

जिसने इंसान की नीयत ही नीलाम कर दी !

 

शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.