#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

किसी के ज़ख्म सहलानाकोई हमसे सीख ले !

कैसे निभता है दोस्तानाकोई हमसे सीख ले !

 

अपनों की सिफ़त होती है कि बस रूठ जाना

उन रूठों को मना पानाकोई हमसे सीख ले !

 

जुबाँ के तीर जब करने लगें जिगर पे वार सीधे,  

खुद को चुभन से बचानाकोई हमसे सीख ले !

 

आते जाते हैं जाने कितने दिल की महफ़िल में,  

उनकी फितरतों को पचानाकोई हमसे सीख ले !

 

वफ़ा का नाम तो है बस किताबों तक महफूज़,

मगर ज़फाओं से पार पानाकोई हमसे सीख ले !

 

भले ही लेता हो दिल हिलोरें दर्दों के दरिया में

फिर भी चेहरे पे हंसी लानाकोई हमसे सीख ले !

 

ज़िन्दगी के सफर ने ही सिखा दिए नुस्खे तमाम,

उन्हें हर सफर में आजमानाकोई हमसे सीख ले !

 

शांती स्वरूप मिश्र

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.