#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

किसी की जानकिसी का ऐतबार थे हम भी,

यारो कितने ही दिलों काक़रार थे हम भी !

झेला है मुश्किलों का दौर भी हमने जमकर,     

फिर भी मोहब्बतों केतलबगार थे हम भी !

दिल की बेताबियाँ बेचैनियां देती थीं गवाही,    

कि किसी की चाहतों मेंगिरफ़्तार थे हम भी !  

बेमियाद सफर का अंजाम कुछ  था चाहे,

मगर मंज़िल की तलाश मेंबेक़रार थे हम भी !

कहाँ से कहाँ पहुंचा दिया रहमतों ने उनकी

कितनों की कद्रदानी केकर्ज़दार थे हम भी !

अच्छा है कि खुल गयी असलियत अपनों की,

 वरना तो कभी दिल सेतरफदार थे हम भी !

 

शांती स्वरुप मिश्र

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.