#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

कभी अपनों से हम, अदावत नहीं करते !

मंज़ूर है झुकना मगर, बग़ावत नहीं करते !

जो भी सच है वो तो रहेगा सच ही हमेशा,

कभी भी झूठ की हम, हिमायत नहीं करते !

मिलना वही है जो मंज़ूर है ख़ुदा को यारो,

मुकद्दर से कभी हम, शिकायत नहीं करते !

चोट खा कर भी मुस्कराते रहते हैं हम तो,

कभी किसी की भी हम, मज़म्मत नहीं करते !

किसी को ख़ुशी देना अपनी आदत है “मिश्र”,

कभी मोहब्बतों की हम, तिजारत नहीं करते !

शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.