#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

गुलशन को उजाड़, बनाने में लगे हैं लोग !

बस ख़ारों से प्यार, निभाने में लगे हैं लोग !

अब न चिंता है अमनो चमन की किसी को,

बस खुशियों में आग, लगाने में लगे हैं लोग !

मोहब्बतों की भाषा तो भुला डाली है सबने,

बस ज़िन्दगी को भाड़, बनाने में लगे हैं लोग !

न रहा कोई मतलब हक़ ओ ईमान का इधर,

अब तो औरों का माल, पचाने में लगे हैं लोग !

हर तरफ छाया है अब नफरतों का आलम,

बस साजिशों के जाल, बिछाने में लगे हैं लोग !

कहाँ गयीं वो मुलाक़ातें वो मोहब्बतें “मिश्र”,

अब तो दिलों के तार, तुड़ाने में लगे हैं लोग !

शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.