#Gazal by Shanti swaroop Mishra

कभी शोलों की तरहकभी शबनम की तरह

लोग बदलते हैं अपने चेहरेमौसम की तरह

 

कभी तो बनके आते हैं हमदर्द ज़िन्दगी में वो,

तो कभी जला देते हैं आशियाँबेशरम की तरह

 

 करिये यक़ीन इन भोले से चेहरों पे साहिबान

बना सकते हैं ये ज़िन्दगीएक जहन्नुम की तरह

 

इनकी अदाओं में शामिल है फरेबों की गन्दगी,        

ये तो करते हैं वार पीछे सेएक बेरहम की तरह

 

इस मतलबी दुनिया में ज़रा संभल के रहियेमिश्र“,

अब तो विरला ही पेश आता हैमरहम की तरह

 

शांती स्वरूप मिश्र

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.