#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

कभी बेमक़सद किसी की ,हम पे नवाज़िश नहीं होती !

कभी खुद के लिए हम से, किसी से गुज़ारिश नहीं होती !

वो ज़रा सा मुस्कुरा दें, तो चाहतों की बाढ़ आ जाती है,

हम दिल भी निकाल कर रख दें, तो जुम्बिश नहीं होती !

वो तो हर रोज़ तोड़ते हैं, दिल न जाने कितने दिवानों का,

फिर भी किसी की न जाने क्यों, उनसे रंजिश नहीं होती !

अगर दर्द भी बयां करें हम, तो चुप करा देते हैं वो हमको,

पर कभी भी उनकी जुबाँ पे यारो, कोई बंदिश नहीं होती !

न ठहरता कभी खुदा भी, किसी के ज़हरीले दिल में “मिश्र”

पाक जिगर के बिना खुदा की, कभी परस्तिश नहीं होती !

शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.