#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

दुनिया की इस धरती से, अब सत्य अहिंसा लुप्त हो गए !

अब लूट पाट और हिंसा में, सब के सब ही चुस्त हो गए !!

सत्य अहिंसा की बातें, अब मिलती हैं सिर्फ किताबों में !

झूठ कुटिलता बेईमानी, अब मिलती है सभी जवाबों में !!

जो सच्चाई का साथ निभाए, उसका जीना अब दूभर है !

इस दुनिया में मक्कार हमेशा, अब रहता सबसे ऊपर है !!

यारो सत्पथ पर चलने की, अब दिखती कोई डगर नहीं !

अब झूठ कपट की इन रातों की, दिखती कोई सहर नहीं !!

पहले परमोधर्म हुआ करता था, ये सत्य अहिंसा का नारा !

अब तो ज़रा ज़रा सी बातों से ही, चढ़ जाता लोगों का पारा !!

गाँधी जी के परम वाक्य को, लोगों ने बिलकुल भुला दिया !

अब ऐसे चरित्र निर्माण हो रहे, दुनिया को जिसने रुला दिया !!

शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.