#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

हर दस्तूर इस ज़माने कानिभाया हमने !

मगर  पा सके वो यारोजो चाहा हमने !

 आये कभी काम जिन्हें समझा अपना,  

पर उनके हर इशारे पेसर झुकाया हमने !

बहुत रंग देखे हैं हमने ज़िन्दगी के दोस्तो,

पर उसका  कोई रंगसमझ पाया हमने !

 समझती है ये दुनिया अब दर्द के आंसू,

 कोई मेहरवां दुनिया मेंढूढ़ पाया हमने !

मिश्र” ज़िन्दगी लगा दी अपनों के फेर में,

पर करें यक़ीं किस पर जान पाया हमने !

शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.