#Gazal By Shanti Swaroop Mishra

कांटे चुभा कर हमसे, वो गुलाब मांगता है !

दाने नहीं हैं घर में मगर, वो शराब मांगता है !

लुटा दिया चैनो सुकून जिसके वास्ते हमने,

हमारी नेकी का हमसे, वो हिसाब मांगता है !

मक्कारियों के नशे में वो चूर है इस कदर ,

कि हर मात का खुदा से, वो जवाब मांगता है !

मनाता है दुःख वो पड़ोसियों की खुशियों पे,

हर किसी का ही खाना, वो ख़राब मांगता है !

न पढ़ सका वो मोहब्बत का ककहरा कभी,

हर समय नफरतों की, वो किताब मांगता है !

इंसानियत के दुश्मन को सभी जानते हैं “मिश्र”,

पर फिर भी अमन का, वो ख़िताब मांगता है !

शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.