#Gazal by SHANTI SWAROOP MISHRA

आदमी से क्या क्या, न करा देता है ख़ुदा !
इंसान को खुला बाज़ार, बना देता है ख़ुदा !

उसे सब कुछ ही बटोरने की चाहत दे कर,
बेचारे इंसान को हैवान, बना देता है ख़ुदा !

कोई तो ओढ़ता है बिछाता है दौलत को,
तो किसी को भिखारी, बना देता है ख़ुदा !

ईमान ओ धरम तो ले लिए वापस उसने,
अब लम्पटों को नायक, बना देता है ख़ुदा !

सिक्के का एक ही पहलू न देखिये “मिश्र”
कभी कभी बिगड़ी बात, बना देता है ख़ुदा !!

Leave a Reply

Your email address will not be published.