#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

जो सच है, उसे तुम छुपाते क्यों हो !
अगर झूठ है, तो इधर आते क्यों हो !

दिल से पूँछ कर जवाब देना दोस्त,
कि प्यार है तो, उसको छुपाते क्यों हो !

कहते हो कि मैं अकेला हूँ दुनिया में,
फिर रूठे हुओं को, यूं मनाते क्यों हो !

आंसुओं से पूंछो कि क्यों बेचैन हैं वो,
अपने दिल को, इतना सताते क्यों हो !

क्यों सजा रखा है इतना दर्द दिल में,
हर किसी को, बेवफा बताते क्यों हो !

दुनिया के मसले तो चलते रहेंगे “मिश्र”,
उलझ कर उनमें, जां फंसाते क्यों हो !

548 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.