#Gazal by Shanti swaroop Mishra

यहां कोंन है अपना कोंन परायाहमने परखना छोड़ दिया !

यहां किसने कितना हमें सतायायादों में रखना छोड़ दिया !

बस छोड़ छाड़ कर दुनियादारीमस्त हो गए अपने में हम,  

बहुत रो लिए जीवन भरअब आँखों ने छलकना छोड़ दिया !

हैं कैसे अज़ब से लोग यहां परसब चलते हैं चालें शतरंजी

जिनको बिठाया सर अपनेअब जान छिड़कना छोड़ दिया ! 

यारो बना के हमको कठपुतलीअपनों ने नांच नचाये खूब,

पर जो गुज़रा वो तो गुज़र गयाअब पांव पटकना छोड़ दिया !                 

 गयी समझ में जीवन कीये सच्चाई हमको आज “मिश्र

कोई किसी का नहीं यहाँ पेअब दिल ने मचलना छोड़ दिया !

240 Total Views 6 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.