#Gazal by Shanti Swaroop Mishra

मेहरवानी अय वक़्त, तूने रहना सिखा दिया !

दुनिया के सारे ग़म, तूने सहना सिखा दिया !

आसान कर दी, अपने परायों की परख तूने 

जो था लबों पर मेरे, तूने कहना सिखा दिया !

कूप मंडूक थे,  पता था बाहर का मिज़ाज़ 

मिल के साथ राहों में, तूने चलना सिखा दिया !

लगाते थे तक तक कर, निशाने मुझ पे लोग 

इक बता के नया हुनर, तूने बचना सिखा दिया !

इबारत भोले चेहरों की,  समझ पाए “मिश्र

शुक्रिया अय वक़्त कि, तूने पढ़ना सिखा दिया ! 

Leave a Reply

Your email address will not be published.