#Gazal by Shanti swaroop Mishra

है दिलों में ज़हर मगर, जुबां से प्यार करते हैं !

अब तो लोग दुनिया में, यही व्यापार करते हैं !

 

ईमानो धरम की बातें तो अब किताबी हैं यारो

अब तो खून के रिश्ते, कफ़न पे रार करते हैं !

 

फूलते फलते हैं दुनिया में मक्कार ही अब तो,

मगर ठग कर भी लोग इन पर, ऐतबार करते हैं !

 

जिधर देखते हैं फ़ितने ही नज़र आते हैं हमें,

अब शाह मिल के चोरों से, खज़ाना पार करते हैं !

 

न रही ये दुनिया अब यक़ीन के काबिल “मिश्र”,

हम देते हैं दिल जिनको, वही अब वार करते हैं !

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.