#Gazal by Vikash Raj

 

फिर नया कोई ख्वाब क्यों संजो नहीं पाता हूँ मैं,

तुझसा तेरी याद को क्यों खो नहीं पाता हूँ मैं ।

 

यार ने अपना बनाकर इस कदर छोड़ा मुझे,

चाह कर भी अब किसी का हो नहीं पाता हूँ मैं ।

 

ना किसी से रश्क है ना इश्क है मुझको मियाँ,

फिर बताओ रात भर क्यों सो नहीं पाता हूँ मैं ।

 

जब भी जाता हूँ सनम गलियों में अपने यार के,

सब तो मिलते हैं मगर तुझको नहीं पाता हूँ मैं ।

 

हाय मेरी बेबसी जो अपने हाले दिल पे भी,

दिल बहुत करता है लेकिन रो नहीं पाता हूँ मैं ।

 

                                  ~>   Vikash Raj                       

1371 Total Views 3 Views Today

2 thoughts on “#Gazal by Vikash Raj

  • May 3, 2017 at 2:00 pm
    Permalink

    वाह , शानदार
    अति सुन्दर

  • August 18, 2017 at 7:06 pm
    Permalink

    Waaahhh…gajab..awsome..!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.