#Geet by Jasveer Singh Haldhar

गीत-हमारे वीर सैनिक
————————–
सदा से भारती के भाल का श्रृंगार है सैनिक ।
उसी की आरती के थाल का अंगार है सैनिक ।।
सिपाही देखता है पार सरहद के अँधेरों में ।
तिमिर को चीर कर जाता बने आतंक ढेरों में ।
लगा के जान की बाजी उड़ा देता कमीनों को,
बहे विद्दुत शिराओं में उसी की धार है सैनिक ।
सदा से भारती के भाल का श्रृंगार है सैनिक ।।1
बना है गात उसका गांव मांटी के मसाले से ।
नहीं डरता कभी भी चीन से या पाक साले से ।
बनाया है बदन अपना तपाकर लोह सा उसने ,
भरा जो शक्ति से अक्षय अनल भंडार है सैनिक ।
सदा से भारती के भाल का श्रृंगार है सैनिक ।।2
भले तूफान आये वो बबंडर चीर देता है ।
नये प्रतिमान गढ़ता है नयी तस्बीर देता है ।
हमेशा देश की खातिर नया इतिहास रचता है ,
बुझाता आग से जो आग वो हथियार है सैनिक ।
सदा से भारती के भाल का श्रृंगार है सैनिक ।।3
खड़ा रहता सजग प्रहरी तभी हमको सुलाता है ।
सुना कर राग भैरव चंडिका के गीत गाता है।
नहीं है मौत की चिंता खड़ा है तान कर सीना ,
सुरों का तार है “हलधर”उसी का यार है सैनिक ।
सदा से भारती के भाल का श्रृंगार है सैनिक ।।4
हलधर -9897346173

Leave a Reply

Your email address will not be published.