0205 – Ishaan Sharma , Anand


गज़ल

देखकर बस आसमाँ मैं रो दिया,
था मेरा कच्चा मकाँ मैं रो दिया।

भीगकर बरसात में जब घर गया,
डाँटने को थी न माँ मैं रो दिया।

यादकर बचपन बनाई कश्तियाँ,
फिर डुबोकर कश्तियाँ मैं रो दिया।

आँख भर कर दे गई वो अर्ज़ियाँ,
फाड़कर सब अर्ज़ियाँ मैं रो दिया।

याद घर की आ रही थी यूँ बहुत,
आ गई जब हिचकियाँ मैं रो दिया।

फिर किसी ने ज़ात मेरी पूछ ली,
चुप रही मेरी ज़ुबाँ मैं रो दिया।

थी ख़ुशी परदेस जाने की मगर,
छोड़ते ही आस्ताँ मैं रो दिया।

हर कोई मुझपर यकायक हस दिया,
सोचता हूँ ये कहाँ मैं रो दिया।

ख़ुद मसल डाला है अपने फूल को,
मुँह छुपाकर बागबाँ मैं रो दिया।


गज़ल

.
आइने से खुद मुँह छुपाते हो।
हर दफा मुझको आज़माते हो।।
.
हर घड़ी तुम जो मुस्कुराते हो।
आँधियों में लौ सी जलाते हो।।
.
आप गुजरा सा वक्त हो कोई।
खुद नहीं आते, याद आते हो।।
.
चुप रहे मुझमें इक छुपा शायर।
पूछता हूँ जब क्या कमाते हो?
.
मैं किनारों सा, तुम लहर जैसे।
पास आते हो, दूर जाते हो।।
.
दोष देते हो धूप को सारे।
पेड़ बनने से हिचकिचाते हो।।
.
खुद घड़ी भर में तोड़ देते हो।
उँगलियों से जो दिल बनाते हो।।


Kavita :

जमाने भर का विष अक्सर लबों से मैं लगाती हूँ।

मुझे वरदान है कोई जो फिर भी मुस्कुराती हूँ।।

.

बदन को घूरती नज़रें मुझे हर रोज़ चुभती हैं,

जुबाँ खामोश रखती हूँ, जिगर पर चोट खाती हूँ।।

.

तले छत के रहोगे तो तुम्हारा वो मकाँ होगा,

मुझे है इल्म ऐसा कि मकाँ को घर बनाती हूँ।।

.

मेरे दिल की तबीयत को समझ पाया नहीं कोई,

नज़र में अश्क रखती हूँ, लबों से मुस्कुराती हूँ।।

.

सती कहकर मुझे इक दौर में जिन्दा जलाते थे,

दहेजों के लिऐ अब भी जलाई रोज़ जाती हूँ।।

.

मेरी माँ कोख तेरी हो गई है आज मुर्दाघर,

यहीं से था सफर मेरा, यहीं से लौट जाती हूँ।।

.

ख़ता है क्या बताऐ बिन सज़ा ऐ मौत देते हो,

लहू से आज भी मैं आतिश ऐ हस्ती बुझाती हूँ।।

.

नहीं कमज़ोर इतनी जो समझ लो पैर की जूती,

बना लूँ रूप चण्डी का तो शिव को भी झुकाती हूँ।।

211 Total Views 6 Views Today
Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *