#Kahani by Rishabh Tomar Radhe

ये कहानी है विमल कौशल और रिया की।

रिया आज बहुत खुश थी क्योंकि आज उसके कॉलेज का पहला दिन था।औऱ जब वो कॉलेज पहुँची तो उसकी हेयर स्टाइल ड्रेसिंग स्टाइल देखकर सभी लड़के उसके दीवाने हो गये।वो जिधर जाती उधर लड़को की भीड़ चल देती।तभी ये बात पहुँचती है विमल है के पास जो एक सेक्सी और कूल किस्म का लड़का है।हमेशा 7,8 लड़को को लिये अपने साथ घूमता रहता है।वो भले 2nd ईयर में है लेकिन लास्ट ईयर के लड़कों की उसके साथ फ़ौज रहती है।हालांकि लास्ट ईयर के लड़कों के कारण विमल को कई ऐसे कार्य करने पड़ते है जो उसे पसंद नही थे लेकिन कॉलेज में अपनी धाक जमाने के लिये वो ये सब करता है।खबर मिलते ही वो जैसे ही रिया से मिलने आया रिया ने उसे भाव नही दिया।और उसकी बेज्जती भी कर दी।तभी लास्ट ईयर के लड़कों ने उससे कहा कि तुझे इसका बदला लेना होगा।औऱ विमल ने भी कुछ ऐसा ही सोचा ।जैसे ही क्लास खत्म हुई सभी कैंटीन की ओर निकल गये लेकिन रिया कुछ लेट हो गई।वो कैंटीन की ओर जाने लगी और विमल के दोस्त से कैंटीन का पता पूछती है औऱ वो विमल का  दोस्त उसे बॉयज टॉयलेट का रास्ता बता देता है।और जब वो टॉयलेट के अंदर पहुँच जाती है तो विमल एक डायलॉग बोलता है मैडम ये तो बस ट्रेलर है फिक्चर अभी बाकी है।और वो लोग बाहर निकल आते है।जब रिया घर की ओर जा रही होती है तो विमल कॉलेज में पोस्टर लगवा देता है।जिसमें रिया टॉयलेट में खड़ी होती है और लिखा होता है 1st टॉर्चर ।विचारी रिया पोस्टर फाड़ कर घर की ओर निकल जाती है।इस तरह जो कॉलेज को लेकर उसके मन मे खुशियाँ होती है वो सभी बेकार हो जाती है।उसने सोच रखा था पहले दिन खूब धमाल करेंगे,लेकिन वो कुछ भी नही कर पाती है।जब वो दूसरे दिन कॉलेज पहुँचती है तो लोग उसे 1st टॉर्चर कहकर चिढ़ाते है।विमल के दोस्त उसका टॉयलेट टॉयलेट कहकर खूब मजाक बनाते है।तभी वो सीढ़ियों से ऊपर जा रही होती है तो कोई पैर अड़ा देता है और बो जाकर विमल की गोद मे गिरती है।और वो सॉरी बोलकर चल देती है ,तभी उसके फोन पर एक मैसेज आता है तो वो देखती है लेकिन ये मैसेज एक वीडियो होता है जिसमे किस तरीके से विमल उसे गिरता है सब कुछ दिखाया जाता है।और इतने में ही उसके ऊपर ढेर सारे पोस्टर गिरते है जिसमे लिखा होता है 2nd टॉर्चर ।वो गुस्से में आकर पोस्टर को हाथ से दबाती है और तेजी से फेक कर मारती है।विमल के पोस्टर जाकर सिर में लगता है और गुस्से से उसका लाल मुँह देखकर उसे प्यार हो जाता है।वो बेचारी निकल जाती है।जब वो घर की ओर जा रही होती है तो विमल लड़को के साथ बॉलीबॉल खेल रहा होता है और तेजी से एक पंच रिया की ओर मरता है जिससे बोल रिया के मुँह पर लगती है और उसका चश्मा टूट जाता है।ये देखकर विमल के आवारा दोस्त बहुत खुश होते है।हालांकि विमल को थोड़ा बुरा लगता है लेकिन वो इन लोगो के साथ हँसने खेलने में लग जाता है।दूसरे दिन विमल उसके लिये एक नया चश्मा लेकर आता है और उसे दे देता है,लेकिन तभी वहां उसके दोस्त आ जाते है तो उसके माथे पर वो 3rd डिग्री टॉर्चर लिखकर एक पोस्टर चिपका देता है।रिया तिलमिला जाती है।लेकिन वो चुपचाप सहती है क्योंकि विमल को लड़को के साथ साथ सीनियर लड़को का भी सपोट रहता है ।अब तो ये काम रोज का हो चला था,हर दिन किसी न किसी बहाने से विमल रिया को परेशान करता है ।और रिया भी उसका सामना करती।इन कारणों से रिया विमल से नफरत करती लेकिन उसके कुछ अच्छे कामो को देखकर रिया की नफरत कुछ कुछ मोहबत में बदलने लगी।तभी रिया एक दिन अपनी साइकिल लेने जाती है लेकिन साइकिल को बिना पहिये की देख वो सब समझ जाती है।और साइकिल को उठाकर बॉलीबॉल ग्राउंड में पहिये से खेलने वाले विमल की ओर फेकती है।जिससे विमल के दोस्त थोड़े गुस्सा हो जाते है तभी विमल बात बनाने को 100 नम्बर की टॉर्चर पोस्टर उसके माथे पर चिपका देता है और हँसकर चला जाता है।लेकिन जब वो जा रहा होता है तो बार बार मुड़कर उसे देखता है और मुस्कुराता है।तभी रिया गुस्से में केंटीन की ओर जाकर लांच बॉक्स निकालकर खाना खाने बैठती है तभी विमल आकर लांच बॉक्स छीन लेता है रिया गुस्से के कारण उसकी ओर देखती भी नही लेकिन विमल सॉस से सॉरी लिखता है और साथ मे आई लव यु भी लिखता है लेकिन तभी उसके सारे दोस्त आ जाते है।वो इस बात को छुपाने के लिये सारा सॉस खाना पर डाल देता है।और टेबिल को पलट देता है।ये देखकर उसके दोस्त मस्ती करते हुये बाहर निकल जाता है।तभी दूसरे दिन जब रिया घर से बाहर निकलती है तो वो देखती है उसके घर के पास एक साइकिल खड़ी है।वो उस पर बैठकर जैसे ही बाहर निकलती है विमल मिल जाता है।रिया विमल को देखकर बहुत गुस्सा होती है और साइकिल आगे बढ़ती है,तभी विमल उस साइकिल पर बैठ जाता है,वो कॉलेज के गेट तक पहुँचता है तो साथ के लड़कों को देखकर उतर जाता है लेकिन अब मोहबत की आग दोनों दिलों में लग चुकी होती है।वो अक्सर नफरत भूलकर आपस में मिलने लगते है।तभी एक दिन कॉलेज में कुछ वर्क करने को दिया जाता है और रिया करके नही लाती है लेकिन विमल किसी से जबरदस्ती छीन कर ले आता है।लेकिन जब उसे पता चलता है कि रिया के पास नोट नही है तो वो उसे अपनी नोट दे देता है।जिसके कारण उसे मार भी खानी पड़ती है।यही दूसरे दिन भी होता है।और ये कारनामे रिया विमल की मोहबत को औऱ मजबूत करने लगते है।अब विमल हर रोज कॉलेज रिया की साइकिल पर बैठकर आता,उसके साथ पानी पूड़िया पीता,कभी उसके साथ पार्क में घंटों बैठता लेकिन वो ये सब अपने दोस्तों से छिपकर करता।धीरे धीरे ये फ़्रेंड़सिंप की शिप लवशिप में बदल जाती है।और एक शोर शराबा करने वाले विमल को ज़िन्दगी के प्रति सीरियस बना देती है।लेकिन तब तक एग्जाम का समय नजदीक आ जाता है तो रिया और विमल साथ बैठकर पढ़ने लगते है।वो सारी सारी रात दोनों साथ मे पढ़ते हैं और एक तरह वो दोनों ही एग्जाम की अच्छी तैयारी कर लेते है।और दोनों बहुत ही अच्छे मार्को से पास भी हो जाते है।तभी विमल के दोस्तो ने एक पार्टी रखी और रिया को भी इनवाइट किया।जब रिया आई तो विमल के दोस्तों ने विमल से कहा इसे परेशान कर और विमल रिया की ओर बढ़ने लगा तभी रिया पीछे की ओर चलने लगी और स्विंगपूल में गिरने को हुई तो विमल के सारे दोस्त बोलने लगे छोड़ दो इसे छोड़ दो लेकिन जब रिया औऱ विमल की नजरें मिली तो वो दोनों एक साथ पूल में कूद गये।और सभी के सामने दोनों ने मोहबत का इकरार किया।इस तरह विमल और रिया ने एक दूसरे को प्रपोज किया।और खूब पार्टी की।अब वो दोनों एक दूसरे के साथ बिल्कुल खुल गये।हर रोज पार्टी करना,मूवी देखने जाना,रात में साथ सोना,अब नॉर्मल बात हो गई लेकिन कोई भी मोहबत बिना परीक्षा के कभी किसी को हासिल हुई है क्या ।जो ये हो जाती।और कॉलेज के प्रिंसिपल ने एक दिन दोनों को मस्ती करते हुये पकड़ लिया और दोनों को फटकार लगाई।उन्होंने रिया के घर फोन लगाकर सब कुछ बोल दिया।कुछ दिनों बाद रिया अपने घर चली गई।और वहाँ उसके पिताजी ने उसकी शादी कौशल नाम के एक लड़के से फिक्स कर दी।जब ये बात रिया ने विमल को बताई तो विमल ने कहा कि वो मोम डेड से बात करके कुछ करता।और उसके घरवालों ने शादी की मना कर दी।तो उसने हार मान ली।और रिया को फोन लगाकर सॉरी बोल दिया तथा वो सिम निकल कर फेंक दी।अब रिया मजबूर थी।शादी करने को क्योंकि विमल मोहबत में जरा सी भी तकलीफ सहन न कर सका और कौशल तथा रिया की शादी होने लगीं।रिया शादी तो कर रही थी लेकिन एक जिन्दा लाश की तरह थी,जिसमें न कोई भाव था और न ही कोई उमंग सिर्फ मजबूरी थी जिसके कारण वो कौशल से शादी कर रही थी।उधर कौशल इन सब बातों से अनजान रिया के सपने देख रहा था,रिया का हाल बिल्कुल ऐसा था जैसा मेरी ये पक्तियाँ बयां करती है:-
“इतना आसान नही होता है ,ये निकाह करना
ख़ुद को छोड़कर किसी ,गैर से रिश्ता करना
रातों की नींद औऱ  दिन का चैन खो जाता है
जब होता है हमें किसी अपने को गैर करना”
कुछ दिनों में रिया की शादी हो गई,और वो अपने ससुराल पहुँच गई।और इधर विमल की नोकरी लग ,लेकिन रिया के दिल मे अब भी विमल छाया हुआ था जैसे काले बादल चाँद पर छा जाते है।जब कौशल सुहागरात के दिन रिया के पास पहुँचा तो रिया उससे हटकर दूर खड़ी हो गई।कौशल ने सोचा शायद थकान है और वो घर पर नई है इसलिये दूर हट गई होगी।लेकिन रिया अक्सर कौशल से दूरी बरतती ।कौशल अब परेशान रहने लगा।तभी एक दिन उसने जोर देकर रिया से पूछा तो रिया ने उसे सब कुछ बता दिया ।और वो कहने लगी कि तुम मेरे जिश्म को तो जीत सकते हो लेकिन मेरा प्यार नही पा सकते ।उधर कौशल ने सोच लिया कि वो विमल औऱ रिया को मिलायेगा।जब वो ये बात अपने घर पर रखता है तो सभी लोग उसके विरोध में बोलते है लेकिन वो नही मानता तो कौशल के पिता उसे घर से निकाल देते है,और कौशल रिया को लेकर मुम्बई पहुँच जाता है,औऱ एक कमरा लेकर रहने लगता है,उसने रिया को देखना ऐसे छोड़ दिया जैसे अमावस्या में चाँद आसमान को छोड़ देता है।अब कौशल दिन रात सिर्फ विमल को खोजने में लग गया।कभी कभी वो रिया को भी साथ लेकर जाने लगा।अब रिया का नजरिया कौशल के लिए बदलने लगा।तभी एक दिन विमल रिया को दिख गया,रिया पागलों की तरह उसके पीछे भागने लगी ,आज वो एक साल बाद चिलाक़े बोली थी।रिया आगे आगे और कौशल उसके पीछे पीछे भागने लगा तभी रिया एक ट्रक के नीचे आते आते बची।अगर कौशल न बचाता तो रिया को मरना पड़ता लेकिन रिया कौशल से बोली मुझे बचाया क्यो?मर जाने क्यो नहीं दिया।तो कौशल को गुस्सा आ गया और उसने रिया के एक चाटा मारा।और कमरे पर रिया को लेकर चला गया।उसने जिस हाथ से चाटा मारा उस हाथ को ही कौशल ने आग के हवाले कर दिया जिसे देख रिया सहर गई उसने जल्दी से कौशल के हाथ को बाहर निकाला और जबदस्ती हाथ पर दवाई लगाई।तो कौशल बोला मैं तुम्हारी ज़िन्दगी में महत्व ही क्या रखता हूं ।कौन हूँ मैं तुम्हारा सिर्फ बदनशीबी और कुछ नही रिया चुप रही वो कुछ भी न बोली।और कुछ दिनों बाद विमल का पता चल गया।तो कौशल ने कहा रिया उसका पता चल गया ।क्या तुम मेरे साथ डिनर पर बाहर चलोगी तो रिया ने हाँ बोल दिया।और वो उसके साथ चली गई।जब वो वहाँ पहुँचे तो वहाँ डांस पार्टी चल रही थी तो कौशल को लोग पकड़कर स्टेज पर ले आये और रिया को भी ले आये।इस तरह वो दोनों डांस करने लगे।इसके बाद कौशल ने खाना खाया और शराब भी पी ली।जब नशा सर चढ़कर बोला तो  कौशल ने कहा रिया जब मैने तुम्हे पहली बार देखा मैंने तुम्हें  उसी दिन दिल मे बसा लिया।लेकिन कमबख्त ये किस्मत……और वो जोर से चिलाय I love you riya और उसने कहा तुम चिता मत करना आज की यादों के साथ भले ही मर मरकर सही लेकिन ज़िन्दगी बिता लूँगा।औऱ वो गिर जाता है।तभी रिया उसे घर लेकर जाती है,सुबह जगकर कौशल सॉरी बोलता है और कहता है कि माफ करना कल नशे में कुछ ज्यादा ही बोल गया।रिया चुपचाप रही।तभी कौशल रिया से बोला तुम तैयार हो जाओ तुम्हें विमल के पास छोड़कर आता हूँ।रिया हा ना किये बिना अपने कमरे में चली गई,आज रिया विमल के पास जा रही है वो खुश तो है लेकिन उसे ऐसा लग रहा है कि उसकी कोई चीज यहाँ छूट रही है।जब रिया तैयार होकर आती है तो वो आज बहुत ही परेशान सी नजर आती है।आज तक उसने अपनी मर्जी से कभी अपनी मांग भी न सजाई थी लेकिन आज वो अपनी मर्जी से सिंदूर लगा कर जा रही थी।कौशल भी सिर्फ दिखाने मात्र को हँस रहा था,उधर विमल को पता चला रिया आ रही हैं तो उसने सजावट आदि करवा दी।जब कौशल वहाँ टेक्सी लेकर पहुँचा तो सजावट देखकर समझ गया आज वो हमेशा हमेशा के लिए जा रही है जिसे उसने बेपनाह मोहबत की जो उसका पहला प्यार थी।और कौशल गाड़ी से उतर कर अपने अशुओ को रोककर आगे आग चल दिया,और गेट पर पहुँच कर वापस टैक्सी की ओर लौट आया और टैक्सी में बैठ जाता है।और टैक्सी वाले से कहता है समंदर के किनारे चलो।औऱ इधर जब रिया विमल से मिलती है तो विमल रिया को देखकर बहुत खुश होता है ।लेकिन रिया उसे बड़ी अजीब नजरों से देखती है ।जैसे कोई अनजान से मिली हो।विमल रिया से बोलता है बैठो लेकिन तभी रिया को कौशल की याद आती है,वो बहुत तेजी से पीछे मुड़कर देखती है तो उसे कौशल नहीं दिखता।वो पागलों की तरह बाहर की ओर भाग देती है।और बाहर जाकर पूछती है कि ये ये टैक्सी कहाँ चली गई।उसमे मेरा पति कौशल मुझे साथ लेकर आया था लेकिन जब कोई कुछ नही बताता है तो वो शहर की ओर भागती है और उधर से वो टैक्सी वाला आ जाता है जो कौशल को सागर किनारें छोड़ कर आया था,जब रिया ने पूछा तो उसने बता दिया तभी वो बोली भईया मुझे वहाँ तक छोड़ दो ।और वो तेजी से सागर तट की और चल देती है।टेक्सी वाला समझदार होता है और वो टेक्सी को तेज चलता है और रिया से कहता है तुम चिंता मत करो ।मेँ अभी वहाँ टेक्सी पहुँचा देता और 5 मिनट में वहाँ पर टैक्सी पहुँच जाती है तो रिया जल्दी से बाहर निकल इधर उधर देखती है तभी उसे कौशल समंदर में बहुत अंदर दिखता है जो मरने के लिए आगे बढ़ा चला जा रहा है।जिसे देखकर उसने अपने होश गवा दिये और कौशल कौशल चिलाते हुये,वो समंदर में कूद जाती है और कौशल के पास पहुँच कर उसे अपने गले से लगा लेती और फिर एक चाँटा मारती और कहती है कि अगर तुम्हें कुछ हो जाता तो मेरा क्या होता।मैं कहाँ जाती ?कौन मेरी जिद  को पूरा करता।और ये कहते हुये उसने कौशल को चूम लिया और I love u  बोल दिया।इस तरह वो दोनों ख़ुशी ख़ुशी रहने लगे।और कौशल की एक तरफा मोहबत जीत गई।कौशल को एक कम्पनी में जॉब मिल गई।और वो अच्छे से साथ साथ रहने लगे।एक साल बाद वो अपने गाँव गये।जहां रिया ने एक लड़की को जन्म दिया ।जिसका नाम उन्होंने चाहत रखा।………………….इस तरह दो लोगो को मिलता देखा कोई सिर्फ इतना ही कहेगा
“अक्सर बहुत दूर चलकर मंजिल मिल ही जाती है
जो रूठी हो कहीं पर किस्मत वो मान भी जाती है
भले धरती और अकाश के बीच बहुत बड़ी दूरी है
मगर क्षिति पर धरती अपने प्रिय से मिल ही जाती है”
ऋषभ तोमर
1136 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.