#Kavita by Acharya Amit

बच्चों ये जो शिक्षा है यह ज्ञान का अमृत हैं

बच्चों ये जो शिक्षा है यह ज्ञान का अमृत हैं

हर उम्र और हर किसी की

यह तो हिम्मत है

बच्चों ये जो शिक्षा है यह ज्ञान का अमृत हैं

अधूरी ख्वाहिशों को यह

करती मुक़्क़म्मल है

इसकी ऐसी बिसात है

यह सबसे अव्वल है

इसको जितना समझोगे तुम उतना ही पार जाओगे

यही तुमको जीत दिलाएगी

जब तुम हार जाओगे

यह वो प्रीत का गीत है

जो सबकी ज़रूरत है

बच्चों ये जो शिक्षा है यह ज्ञान का अमृत हैं…

तुमने इसको खो दिया तो तुम स्वयं को खो बैठोगे

इसकी जितनी जय करोगे उतना ही

प्रगति के पथ पर तुम आगे बढ़ोगे

यह ज़िन्दगी के तमाम अंधेरों की

रोशन ज़न्नत है

बच्चों ये जो शिक्षा है यह ज्ञान का अमृत हैं…

आचार्य अमित

One thought on “#Kavita by Acharya Amit

  • September 19, 2017 at 2:14 pm
    Permalink

    वाह ! बहुत बढ़िया

Leave a Reply

Your email address will not be published.