#Kavita by Ajay Jaihari Kirtipad

ईश्वर जन्म क्यों नहीं लेता——–

 

इस मतलबी दुनिया में

हर आदमी ऐसा होगा।

झूठ को सच और सच को

……झूठ कहता होगा।

रहता होगा बेशक

………चार दीवारों में।

पर उसने अपना मान

इमान सब बेचा होगा।

माँ बाप को…………

भेज दिया होगा वृदाश्रम में।

खुद आलीशान मकानों में

बीबी बच्चों के संग।

शान से रहता होगा

लूटता होगा अस्मत।

माँ बहिनों की…….

खुद को बेकसूर कहता होगा।

और जिसने भी…..

देखा होगा ये मंजर।

वो चुप बैठा होगा

………मारता होगा।

बेकसूर इंसानों को

धारधार हथियारों से।

इसे देखकर क्या कभी

…….किसी का दिल।

पसीजा होगा……….

और बनता होगा नमक।

बेशक झीलों के मीठे पानी से

पर कड़वा होने के।

बावजूद भी इतना

………मीठा होगा।

और ये इंसा………….

जिसे बनाया खुदा ने।

निकलेगा खुदगर्ज़

ईश्वर ने भी न सोचा होगा।

तभी तो ईश्वर……….

अब न लेता होगा।

धरती पर जन्म……..

और स्वर्ग लोक में ही।

शांति से रहता होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.