#Kavita by Ajeet Singh Avdan

गूगल दादा

~~

गूगल दादा कर रहे, पल भर में अनुवाद।

हिंदी के अधिकांशतः, शब्द उन्हें हैं याद।।

 

शब्द उन्हें हैं याद, हमारी मातृ धरा के।

हार रहे हम ज्ञान, ज्ञान में विश्व हरा के।।

 

कह शिवगढ़ि अवदान, नेक कुछ नहीं इरादा।

भाषा में घुसपैठ, कर रहे गूगल दादा।।

 

…अवदान शिवगढ़ी

ढ़ंडारी, लुधियाना।

Leave a Reply

Your email address will not be published.