#Kavita By Anand Singhanpuri

हाकलि/मानव छंद*
——————–
*मन बावरा*
*********
झूमें बलखे  हैं   पवन,
    गाये मेघ मल्हार गगन।।
        खिले फूलों का बगियन,
            महका है आज ये चमन।।1।।
रंग पिरोये मस्त मगन,
  उन्मुक्त सरसे आज पवन ।
       चिरैया चहके हैं आंगन,
          कुहके कोयल मनभावन।।2।।
दिल में चुभे अनेक चुभन,
    होठों पे गहरी सिसकन।
        तन भी उगले ये तपन,
          निखरे कैसे उस पर तन ।।3।।
बढते   जाये   प्रेम  सघन,
   कैसा उमड़ा हाय अगन।
      अनसुलझे पहलु सा कथन,
          करते हम सब अभिनंदन।।4।।
अलबेली भोर का किरण,
     लगे बढ़ मनुहर सुहावन।
         रंगों से  निखरे   चितवन,
           सजी   धरा   झूमे पावन।।5।।
छके दृग  मीठे  आनन,
     विरही आकुल सी साजन।
         घोलकर मिसरी  सी तान,
            दे जाओ सुंदर मुस्कान।।6।।
*रचनाकार-*
*कवि आनन्द सिंघनपुरी*
    रायगढ़ ।
9993888747

Leave a Reply

Your email address will not be published.