#Kavita By Anantram Chaubey

मकर संक्रांति

मकर संक्रांति पर्व है आया ।
नये साल का त्योहार आया ।
पवित्र स्नान सभी करते है
नये साल का त्योहार है आया ।

शहर गांव की नदियों जाकर
लाखो नर नारी स्नान करते है ।
सूर्यदेव जब उत्तारायण मेंआते
सुख शांति समृद्धि लाते है ।

प्रति वर्ष 14 जनवरी को
यह त्योहार सभी मनाते है ।
तिली का उपटन करते है
और नदियों में नहाते है  ।

गुड़ तिली के लड्डू बनते
दान भी उसका करते है।
खिचड़ी का भी दान करने
से पर्व पर पुण्य कमाते है ।

गंगा जमुना नर्मदा जैसी
पवित्र नदियों में नहाते है ।
हरिद्वार इलाहाद नासिक
तीर्थो में जाकर नहाते है ।

अलग अलग प्रांतों में
इसका अलग महत्व है।
कहीं पोगल के रूप में
कहीं पर पतंग चढ़ाते है ।

पंजाब और हरियाणा में
नये वर्ष की नई फसल
को काटकर सब मिलकर
इस दिन खुशियाँ मनाते है ।

अनन्तराम चौबे
अनन्त

Leave a Reply

Your email address will not be published.