#Kavita by Anantram Chaubey

गर्मी के मौसम मे

 

गर्मी के इस मौसम मे

तपती धूप दोपहरी मे

लू चलती है गरम गरम ।

झुलस रहे जैसे आग मे ।

पेड़ की छांव  मिल जाये

थोड़ी राहत मिल जाये

धूप छांव के आलम मे

घर से कोई निकल न पाये ।

गर्मी के इस मौसम मे

किसी को लू लग न जाये ।

कूलर पंखा से वाहर निकलो

धूप से डर लगता है ।

घर से वाहर निकलो तो

सूरज आग उगलता है ।

बुजुर्ग और बच्चो को

बीमारी का डर लगता है ।

गर्मी के इस मौसम मे

भूप से डर लगता है ।

पेड़ पौधो का हाल बुरा है

झुलस रहे है गर्मी से

बिन पानी के सूख रहे है

गर्मी के इस मौसम से ।

पशु पक्षियो का हाल

न पूछो बेहाल हो रहे

गर्मी के इस मौसम मे ।

अनन्तराम चौबे

*अनन्त *

जबलपुर म प्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.