#Kavita by Anantram Chaubey

जिस माँ ने

 

जिस माँ ने जन्म दिया है

सबसे सुन्दर वो माँ है ।

माँ की ममता मत पूछो

ममता की मूरत माँ है ।

माँ ही उडौना माँ ही विछौना

जब माँ की कोख मे होते है ।

माँ खाना जो भी खाये  ।

वो बच्चे को मिल जाये ।

कुदरत का ये खेल निराला

माँ की कोख का घर निराला ।

नौ माह का सुन्दर सपना ।

पल पल माँ सजाती है ।

क्या क्या कष्ट वो सहती है

फिर भी वो खुश रहती है ।

माँ बनने के सुख के खातिर

अपने दुख को भूल जाती है ।

बेटा हो या बेटी हो बस

अपनी संतान समझती है ।

भ्रण हत्या जैसा घृणित

कार्य कभी नही करती है ।

माँ बनने के सपने को

हर पल सोचती रहती है ।

कितने सुन्दर सपने प्यारे

माँ देखती रहती है ।

ऐसी माँ के सपनो को

माँ बनने से पूरे होते है ।

जिस माँ ने जन्म दिया

उस माँ के कदमो मे जीते है ।

अनन्तराम चौबे

अनन्त

जललपु  म प्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.