#Kavita by Avnish Singh Chauhan

एक आदिम नाच
…………………..

आज मुझमें
बज रहा
जो तार है –
वो मैं नहीं –
आसावरी तू

एक स्मित
रेख तेरी
आ बसी
जब से दृगों में
हर दिशा
तू ही दिखे है
बाग़-वृक्षों में,
खगों में

दर्पणों के सामने
जो बिम्ब हूँ –
वो मैं नहीं –
कादम्बरी तू

सूर्यमुखभा!
कैथवक्षा!
नाभिगूढ़ा!
कटिकमानी
बींध जाते
हृदय मेरा
मौन इनकी
दग्ध वाणी

नाचता हूँ
एक आदिम
नाच जो –
वो मैं नहीं-
है बावरी तू।। – अवनीश सिंह चौहान

Leave a Reply

Your email address will not be published.