#Kavita bny Dr. Krishan Kant dubey

आओ मिलकर एक ऐसी दुनिया बनाये,

        क्या गोरा क्या काला सबका घर बनाये|

 

        आओ मिलकर एक जन्नत जमीं पर सजाये,

        मोहब्बत के तमाम रंगों से उसे रंगीन बनाये|

 

        जाति,धर्म,सम्प्रदाय की दीवारों को तोड़ दे,

        इन्सानियत की मखमली चादर से हंसीन बनाये|

 

        आओ मिलकर एक ऐसी कहानी बनाये

        क्या गरीब क्या अमीर सबको एक ही छत के नीचे बैठाये|

 

         लोग कहते हैं अगर हमें पागल तो कहनेे दो

         आओ मिलकर हम मोहब्बत का तराना गाये|

 

         यूं तो बहुतों ने गुलशन खिलखिलाये होगें

        आओ मिलकर हम चेहरों को खिलखिलाये|

 

        लोगों के सीनों में आग बहुत सुलग रही है नफरतों की

        आओ मिलकर उस आग को मोहब्बत के शबनम बनाये|

Leave a Reply

Your email address will not be published.