#Kavita by AJAY KUMAR SHUKLA

नीव रखी आजादी की ,

                             तात्या तोपे और मंगल ने !

हो गयी  शाहीद झासी की रानी ,

                            सन सत्तावन की क्रांति में !!

नाना साहब और हजरत महल ,

                         ने भी विद्रोह किया था !

लेकिन ब्रिटिश नायक ने ,

                     इस विद्रोह का दमन किया था !!

थी लगी आग जो सीने में ,

                     सन सैत्तालिस जाके बुझ पायी !

ना जाने कितने वीरो ने ,

                        आजादी में गवाये !!

त्याग दिये सब धन दौलत ,

                       और तोड दिये सब बन्धन को !

स्वीकार किया भारत माता के ,

                चारणो में खुद को अर्पन करने को !!

         — कुमार अजय

Leave a Reply

Your email address will not be published.