#Kavita by Annang Pal Singh

सच्चाई उपदेश की दिखे आचरण माहिं  !

यदिइसके विपरीत है तो जन सज्जन नाहिं !!

तो जनसज्जन नाहिं, कर्म करके दिखलाओ !

अपने आलस से मत आलस तुम फैलाओ. !!

कह ंअनंग ंकरजोरि ,भरो हर उर अच्छाई !

करके खुद आचरण दिखाओ तुम  सच्चाई. !!

 

अनंग पाल सिंह⁠⁠⁠⁠

Leave a Reply

Your email address will not be published.