kavita by Kavi Prahlad Singh Jhorda

“प्रीत भुलाई क्यूं पा’वणियां”

अंतस रै हैले आवणियां
प्रीत भुलाई क्यूं पा’वणियां
कांई  चूक हुई मुरधर सूं
जिणरी रीस करी मे’वङला |
किणरी रीस करी मे’वङला ||

सियाळै डांफर में रै’गी
ऊनाळै लूवां में बै’गी |
थारी अगवाणी में आ धण
कितरा घाव कळैजे सै’गी |
देटूळां तनङो रळकायो
पतझड़ सूं मुखङो मुरझायो
दूजा कुण इण नैं चा’वणियां |
प्रीत भुलाई क्यूं पा’वणियां ||

जेठ असाढां ओळ्यूं आयी
मनङै में उम्मीदां बा’यी |
आंगळियां दिन गिणतां- गिणतां
चिन्तावां घरियो कर लायी |
लूखो हींडो तीजां दैगी
राखी पूनम सूखी रै’गी
क्यूं ना बरस्यो तूं सावणियां |
प्रीत भुलाई क्यूं पा’वणियां ||

ओ चौमासो कैङो आयो
मुरधर रो कण कण तिरसायो |
विरहा में धुकते हिरदे पर
भादो लूण छिङकबा लायो |
जळ झूलण रै दिन कौडायो
मोहन भी रैग्यो बिन न्हायो
बंसी रै साथै गावणियां |
प्रीत भुलाई क्यूं पा’वणियां ||

नहीं कमी धण रै तन मन में
नहीं कमी इण रै जोबन में |
जे थारो मन मैलो नीं तो
कांई अङचन बोल मिलण में |
अणजाणै जे गांठां उळझी
बिन सुळझायां बै कद सुळझी
सुळझा लीजे उळझावणियां |
प्रीत भुलाई क्यूं पा’वणियां ||
कांई चूक  हुई मुरधर सूं
जिणरी रीस करी मे’वङला |
किणरी रीस करी मे’वङला ||

1133 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.