#Kavita by Pankaj

कु छ आम कुछ खास बातें…

सफर के रिश्ते, मंजिल तक पहुंचे
ये जरूरी नहीं…
उनसे बातें अधूरी रह ही जाती है।
जिंदगी में साधना, कविता में भावना न हो तो
दोनो अधूरी रह ही जाती है।
रेत की तरह हाथों से फिसलते हैं रिश्ते
और…कविता भी
सलीके से ना सहेजो तो..
उनसे जुड़ी कहानी अधूरी रह ही जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.