#Kavita by Shambhu Nath

तपन बढ़ रही है /////
बरसात ने भिगाया ////
आया महीना मस्त ////
सावन का महीना आया////
रूप रंग खिल रहे है////
कलियाँ हिलोरा मारे ////
चाँद भी हंस रहा है///
हंस रहे है तारे ///
देख के गुलाब हंसी ///
रोक नहीं पाया ///
आया महीना मस्त ////
सावन का महीना आया////
मन बड़ी बेसब्री से ///
इन्तजार कर रहा है///
मौसम झुला झुला के///
उन्माद भर रहा है////
मुझको बुला रहा है///
सेज है सजाया ////
आया महीना मस्त ////
सावन का महीना आया////

265 Total Views 6 Views Today
Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *