kavita by Shambhu Nath

संघर्ष ही जीवन का //
मूल एहसास है //
कौन कहता है //
संघर्ष का नहीं साथ है //
बचपन बड़प्पन में //
हंस के गुजारा //
जवानी में कइयो //
पर तीर मारा //
हरदम हमेशा //
देखा प्रभात है //
संघर्ष ही जीवन का //
मूल एहसास है //
कौन कहता है //
संघर्ष का नहीं साथ है //
पढ़ लिख कर के //
करता कमाई //
बीबी से कभी कभी //
होती लड़ाई //
बहू पोते कहते //
दादा नबाब है //
संघर्ष ही जीवन का //
मूल एहसास है //
कौन कहता है //
संघर्ष का नहीं साथ है //

Leave a Reply

Your email address will not be published.