#Kavita by Shyam Prakash Pandey

रिश्तों की डोर का साक्षी है,
विश्वास का बंधन है,
ये पावन रक्षा बंधन है।
भाई बहन के प्रेम को,
समर्पित जीवन है।**ये पावन
खुशियों से आह्लादित
ये चाहत का उपवन है।*ये पावन
श्रद्धा और समर्पण का,
ये बरसता सावन है।*ये पावन
भाई बहन की श्रद्धा का,
ये महकता चंदन है ।**ये पावन
भाई के खातिर दुआ माँगती,
बहन का वंदन है ।**ये पावन
ढेरों ढेर बधाई सबको,
सबका अभिनंदन है।**ये पावन

Leave a Reply

Your email address will not be published.