#Kavita by Daleep Patwal

दगडियों मेरी एक गढ़वली कविता

 

त्वे बिना मि ज्यु त ज्यु कनुक्वे”

 

त्वे बिना मि ज्यु त ज्यु कनुक्वे,

पिडा सरैला कि हूंदी, त सयेंदी भी,

पिडा जिकुड़ी मा भारी, सौलू त सौलू कनुक्वे।

त्वे बिना मि ————कनुक्वे ।

 

अशधरि आंख्यों मा हूंदी, त घटकी भि लेंदू,

धतकरा खून का ब्वगणा आँसू,

मि प्यू त प्यू कनुक्वे।

त्वे बिना मि———-कनुक्वे ।

 

तेरु खट्टू प्राण ही सै मीसे, मि फिर भी जी ल्यूलु,

पर म्वरि-म्वरि मांड, प्यू त प्यू कनुक्वे।

त्वे बिना मि ————कनुक्वे ।

 

बस नी मेरु अफ फरि, कुछ भी मी नि सुवांन्दू,

मेरु कलेजा का कतरा-कतरा मा तु,

त्वे जतू त जतू कनुक्वे ।

 

त्वे बिना मि ज्यु त ज्यु कनुक्वे-2 ।।

 

दलीप पटवाल”एक उत्तराखण्डी

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.