#Kavita by Devanand Saha Anand Amarpuri

नववर्ष अभिनंदन ।।।।।

 

बीते  वर्ष  की अंतिम  प्रहर  में,

नववर्ष का हार्दिक अभिनंदन ।

वर्ष के प्रथम सुबह के सूर्य की,

प्रथम किरण का सादर वन्दन।।

 

गुजरे साल से शिकायत नही ,

नए  साल  से  इनायत  है  ।

हर क्षेत्र,हर वर्ग  की  प्रगति;

देश के समृद्धि की हिदायत है।।

 

समर्पित करेंसर्वस्व देश हित में,

यह मुख्य उद्देश्य है  हमारा

कोशिस करेंगे दिक्कतें मिटाने की

यह   दृढ़  निश्चय  है  हमारा  ।।

 

निवेदन है छात्रों और कर्णधारों से,

समाज की जातीय विषमता मिटाएं।

उग्रवाद,वर्गवाद,अलगाववाद हटाकर,

समाज मे शांति और सम्पन्नता लाएँ।।

 

चहुमुखी विकाश हेतु,स्वार्थ को छोड़ें,

राजनेताओं,रहनुमाओं से इबादत है।

न बरगलाए किसी कौम और छात्रों को,

जो उनकी चिर-परिचित आदत है।।

 

और आपसे क्या विनती करूँ या-

क्या उपहार आपको,दूँ नववर्ष का।

हर समस्या का समाधान ढूंढते हुए,

प्रगति हो हमारे भारतवर्ष  का ।।

 

देवानंद साहा ” आनंद अमरपुरी “

Leave a Reply

Your email address will not be published.