#Kavita by Dharmender Arora

आंधियों की धुन पे’ गाती ज़िंदगी!
दीप हिम्मत के जलाती  ज़िदगी!! ***************************
वक्त की सरगोशियों के साज़ पर!
दिलनशीं नगमे सुनाती जिंदगी!!
***************************
चूम लेता गर बुलंदी है बशर!
खिलखिलाकर मुस्कुराती ज़िंदगी!!
***************************
गरदिशों के काफ़िले को रौंदकर!
खुशनुमा मंज़र दिखाती ज़िंदगी!!
***************************
आज को जीना मुसाफ़िर शान से!
बस यही पैग़ाम लाती ज़िंदगी!!
***************************
धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
(9034376051)

129 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.