#Kavita by dharmender arora musafir

*हवाओं में दीपक*

इरादों को तुम आज़माया करो !
हवाओं में दीपक जलाया करो !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
बहारों का कुछ भी भरोसा नहीँ !
खिज़ाओं में गुलशन सजाया करो !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
किसी का कभी भी न कोई हुआ !
हकीक़त ये मन में बसाया करो !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
खुशी के’ दिलों में जलाकर दिए !
ग़मों का अँधेरा मिटाया करो !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
गिराना किसी को जहानत नहीँ !
मुहब्बत से’ सबको उठाया करो !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
तराने सुहाने ही’ गाओ यहाँ !
न ग़मगीन नगमें सुनाया करो !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
डगर नेकियों की बड़ी चीज़ है !
दुआओं में रब को मनाया करो !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
मुसाफ़िर करे है गुज़ारिश यही !
न दिल को किसी के दुखाया करो !!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
9034376051

Leave a Reply

Your email address will not be published.