#Kavita by Dinesh Pratap Singh Chauhan

“यही बस लोकतंत्र है”

—————————-

सत्ता वाले कैसे सत्ता फिर पायें

विपक्ष वाले कैसे सत्ता में आयें

यही बस लोकतंत्र है

————————————–

पांच बरस खाकर फिर कैसे खायें

खाया हुआ है उसको कैसे पचा पायें

यही बस लोकतंत्र है

——————————————-

भाषण से जनता को कैसे ठग पायें

ठगकर मूर्ख बनाकर कैसे रख पायें

यही बस लोकतंत्र है

—————————————

विपक्ष में सत्ता को जिसपर गरियायें

सत्ता में आते ही उसे सच बतलायें

यही बस लोकतंत्र है

———————————————

जाति धर्म और सम्प्रदाय को भड़कायें

और लाशों पे अपनी सत्ता टिका पायें

यही बस लोकतंत्र है

———————————————

दलों के दलदल में हम पैठ बना पायें

पैठ बनाकर कैसे सत्ता चर पायें

यही बस लोकतंत्र है

——————————————-

हाथ जोड़कर पहले तो सत्ता पायें

सत्ता पाकर फिर कैसे हम गुर्रायें

यही बस लोकतंत्र है

—————————————

ताक़त से या पद देकर बहला पायें

बुद्धिजीवियों को दरबान बना पायें

यही बस लोकतंत्र है

——————————————

झूठ का तंत्र मीडिआ से फैला पाएं

इसी तंत्र से कैसे सबको बहलायें

यही बस लोकतंत्र है

—————————————-

सत्ता के हर पायदान पे जमूरे बिठलायें

और फिर चैन की बंसी यहाँ बजा पायें

यही बस लोकतंत्र है

——————————————

बेशर्मी की सतत साधना कर पायें

बेशर्मी का एक मुजस्सिमा बन जायें

यही बस लोकतंत्र है

—————————————-

जो हों सहमत उनका दोहन कर पायें

और असहमत को हम द्रोही बतलायें

यही बस लोकतंत्र है

———————————————

स्वयंसेवकों के काँन्धों पर चढ़ पायें

उनको सीढ़ी बना के सत्ता हम पायें

यही बस लोकतंत्र है

——————————————

नारा गरीबी दूर करो का फैलायें

आड़ में ख़ुद की गरीबी कैसे मिटा पायें

यही बस लोकतंत्र है

——————————————

पक्ष विपक्ष का ढोंग सभी को दिखलायें

ढोंग दिखाकर बाँट बाँट कर हम खायें

यही बस लोकतंत्र है

———————————————

“दिनेश प्रताप सिंह चौहान”

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.