#Kavita by Dr. Dr. Naresh Sagar

ऐसे बाबाओं का बहिष्कार करो🙏

बीस साल तक बीस रूपये की, झाडी पै अब रहना है

तूने जितने जख्म दिये , अब तुझको भी वह सहना है

 

बडे मजे से तूने काटी,बन संयासी राजा जी

जितने आँसू तूनें बांटे, तेरी आँखों से बहना है

 

रामपाल.आशाराम , तेरे भाई वहीं पै रहते है

बीस साल तक ,रात दिन अब कहते रहो जो कहना है

 

तेरे जैसे लोगो के तो, अंत बुरे ही होते है

अर्श से तुम फर्श पै, धरती का मिला बिछौना है

 

गद्दीधारी बाबाओं की, अब खत्म करे जड से सत्ता

वर्ना तो हर बार जख्म खा ,खुद को ही सहलाना है

 

“सागर” तुम बहिष्कार करो, ऐसे पाखण्डी लोगो का

अपने पास रैदास,कबीरा,नानक, जैसो का खजाना है

डाँ. नरेश कुमार “सागर”

9897907490

Leave a Reply

Your email address will not be published.