#Kavita by Dr Neetu Singh Chauhan , Anjali

“विरह”
मेरी दर्द भरी
बॉहों मे तुम
आयी क्यूं
नही |
मिल कर भी
हमसे मिल
पायी क्यूं
नही ||
कैसा है ये
प्रणय प्रेम
ब्यथा विरह
सहकर भी
मिलन की रात
आयी क्यूं नही||
सच-सच बता
ऐ मेरी प्रिये!
समीप आकर
भी मेरे करीब
आयी क्यूं
नही |
विरह की आग
में जलकर भी
अंजलि प्राण
निकले क्यूं नही ||

नीतू सिंह”अंजलि”

Leave a Reply

Your email address will not be published.