#Kavita by Gopal Kaushal

नदी के रंग

**

काले-स्वेत बादल

मानों  धीरे – धीरे

भू  पर उतर  रहे

लेकर नदी में हिलोरे ।।

खिली – खिली – सी

सूरज  की  किरणें ।

नीर  के आईने में

आई मानों संवरने ।।

साँय – साँय कर

सरिता बहती रहें ।

नाविक ले पतवार

सरिता ने गीत कहें ।।

मझधार में भंवरे यूँ

ही गोतें लगाते  रहे ।

हौसलों से  हीं  हम

नौका पार लगाते रहें ।।

✍ गोपाल कौशल

262 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.