#Kavita by Gopal Kaushal

जरा …बस धीरे चलाएं

…बच्चे बैठें .है ……..

🚌 🚌 🚌 🚌 🚌 🚌

 

स्कूल बसों की स्पीड तय हो

जिससे  बच्चों  में न  भय हो ।

अनुभवी हो  बस का चालक

नियमों के लिए हम चैतन्य हो ।।

 

चांद  है , आफताब  है  बच्चे

रोशनी की किताब है ये बच्चे ।

जब अपने स्कूल को जाते है

ऐसा लगता कामयाब है बच्चे ।।

 

बसों की गुणवत्ता निर्धारित हो

बच्चों की सुरक्षा  आधारित हो ।

जब स्कूल के बच्चे बैठे हो तो

बस धीरे चलाने की नसीहत हो ।।

 

बेटा-बेटी मेरे महफूज है ,वहाँ

सबने दिल को समझाया होगा ।

क्या बीती होगी माता-पिता पर

जब फोन स्कूल से आया होगा ।।

 

स्कूल बसें अब सुविधामय हो

बच्चों की  यात्रा  मंगलमय हो ।

डीपीएस  की  घटना से सबक

लेकर  पालक गण  चैतन्य  हो ।।

 

गोपाल कौशल

नागदा जिला धार मध्यप्रदेश

99814-67300

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.