#Kavita by Ishq Sharma

एक पैग़ाम “माँ” के नाम “””””””””””””””

नातर्स नही दिलदार वो,मेरा पहला पहला प्यार है।

ग़मगुस्सार अस्हाब वो, मेरा पहला पहला प्यार है।

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

आगाज़ भी मेरा अंत भी,  मेरी  अपनी ज़ागीर वो।

उस बिना ना पल  कटे, मेरा पहला पहला प्यार है।

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

इब्तिला  कितनी  सही,  उल्लास  उसके मुख रहा।

फ़लक जिसके पैरोंतले,मेरा पहला पहला प्यार है।

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

नाज़िश ना बेख़ुद है वो,इल्तिफ़ात उसके रग में है।

उरूज़ उसकी देख लो, मेरा पहला पहला प्यार है।

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

दानिश का भंडार वो,  मेरे लफ्ज़ की  तजुर्मान है।

मेरी माँ ही मेरा आसरा,मेरा पहला पहला प्यार है।

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””

कब ख़्वार था मालुम ना,मेरा बचपना भी है वही।

इश्क़ उसकी देन है जो,मेरा पहला पहला प्यार है।  –  इश्क़ शर्मा प्यार से

99 Total Views 6 Views Today
Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *